सच से धन कमाओ और मितव्ययी बनो (Earn Honestly and Spend wisely)

Pin It

जीवन की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये धन अवश्य अर्जित करना चाहिये। सङ्कट समय के लिये बचत भी अवश्य करनी चाहिये। धन की तीन गतियाँ है। दान, भोग और नाश। अधिक धन की लालसा में अपना सुख व शान्ति नष्ट न करें। आय से अधिक व्यय करने से अशान्ति होना सम्भव है।

स्वस्थ रहें (Be Healthy) - शरीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ रहना और सदा सक्रिय रहना हितकारी है। प्रात:- सायं भ्रमण, शरीरिक परिश्रम, प्रकृति-प्रेम और भोजन में संयम जीवन कला के चार स्वस्थ स्तंभ हैं। पालन करें। क्रोध, चिन्ता, विषाद, तनाव, निराशा, अहंकार आदि दोषों से बचें और मानसिक रूप से स्वस्थ रहें। कहते हैं- ‘पहला सुख निरोगी काया’।

आशावादी बनें (Be Optimistic)- आशावादी कामना से सफलता प्राप्त होती है और भविष्य उज्जवल होता है। आशा और उत्साह प्रगति का और निराशा गिरावट की प्रतीक है। मनोबल सदृढ़ रखें। स्मरण रखें- ‘मनके हारे हार है। मन के जीते जीत’।।

भूलें और क्षमा करें (Forget and Forgive) - मतभेद एक प्राकृतिक अंश है। इस से तनाव में न आयें। अप्रिय बातों को भूल जाना, क्षमा करना और अपनी गलतियों पर क्षमा माँग लेना सर्वोत्तम नीति मानी गई है।

परोपकारी बनें ( Be Benevolent) - निर्धन, अपाहिज, रोगी की यथाशक्त्ति सहायता करना परम धर्म है। रामचरितमानस में लिखा है- परहित बस जिन्ह के मन माहीं। तिन्ह कहुँ जग दुर्लभ कछु नाहीं।।

Pin It

हिन्दी जोक्स–चुटकुले

Pin It
  • एक छोटी बच्ची ने दरवाजा खोला और अपने भैया की गर्लफ्रैंड को देखकर बोली, “आप रोज-रोज भैया से मिलने आती हो आपका अपना भैया नहीं है क्या?”
  • पत्नी ( पति से), “मैं तो मानती हूं कि शादी एक लॉटरी है?”

पती, “पर मैं नहीं मानता!”

पत्नी, “क्यों?”

पति, “क्योंकि लॉटरी में दोबारा किस्मत आजमाने का मौका मिलता है मगर शादी में नहीं।”

  • लता (पति से), “सुनो जी जिस पण्डित ने हमारी शादी करवाई थी वो कल मर गया।”

पति, “अपने किये का अंजाम तो भुगतना ही पड़ेगा।”

  • नर्स, “बधाई हो, आपके जुड़वा बेटे हुये हैं।”

विश्र्वास, “ये तो होना ही था।”
नर्स, “कैसे?”
विश्र्वास, “जब देखो कौन बनेगा करोड़पति पार्ट-2 देखती थी, मिल गया न उम्मीद से दोगुना।”

  • पत्नी तारों को देखकर पति से बोली, “वो कौन सी चीज़ है जो तुम रोज़ देख सकते हो मगर ला नहीं सकते।”

पति, “पड़ोसन।”

  • एक मित्र ( मोहन से), “तुम्हारे पापा क्या करते हैं?”

मोहन, “जो मेरी मम्मी कहती है वो….!”

  • पत्नी, “मेरी आयु 58 साल होते हुये भी आपका दोस्त मेरे हुस्न की तारीफ़ करता है।”

पति, “उस्मान भाई होगा।”
पत्नी,”आपको कैसे पता?”
पति, “वो कबाड़िया जो ठहरा।”

Pin It

हिन्दी सीखें–प्रमुख विराम-चिह्न

Pin It

Punctuation marks in Hindi (प्रमुख विराम-चिह्न)

पूर्ण विराम – वाक्य के समाप्त होने पर यह चिह्न लगाया जाता है। इससे वाक्य के पूर्ण होने का बोद्ध होता है। जैसे –

  • रवी सो गया है। अब कल सवेरे मिलना।
  • सूर्योदय से पूर्व उठना सेहत के लिए लाभकारी है।

अल्प विराम – वाक्य में जहाँ थोड़ा रुकना पड़े जिससे अर्थ स्पष्ट हो जाये। जैसे-

  • खेलो, खाओ और मस्ती करो।
  • मैने नई पैर, पैंसिल और पुस्तक ख़रीदी है।

अर्ध विराम – जहाँ दो वाक्यों के बीच में भ्राँति की संभावना को मिटाना हो तब इसे प्रयोग किया जाता है। जैसे-

  • अपने मन की करो; मुझे दोश नहीं देना।
  • मीठा बोलो, सत्य बोलो; मगर झूठ कभी नहीं बोलना।

प्रश्नसूचक चिह्न – वाक्य में प्रश्न किया जाये, तो अन्त में प्रश्नसूचक चिह्न लगाया जाता है। जैसे-

  • तुम्हारी बहन कहां है ?
  • क्या आपने कभी आगरा देखा है ?

विस्मयादिबोधक चिह्न – वाक्य में जहाँ भी हर्ष, शोक, घृणा और आश्चर्य प्रकट किया जाता है वहाँ पर यह चिह्न प्रयुक्त होता है। जैसे-

  • अरे! तुम कक्षा में प्रथम रहे!
  • हे राम! इन्हें बचाओ!

उद्धरण चिह्न – किसी कवि, लेखक, पुस्तक, पत्र-पत्रिका आदि के नाम को इकहरे उद्धरण चिह्नों में और किसी के कथन को जयों का त्यों उद्धृत किया जाए तो उसको उद्धरण चिह्नों में रखा जाता है। जैसे –

  • पिता जी ने कहा था, “सत्य की हमेशा जीत होती है।”
  • मेरा एक लेख ‘भासकर’ पत्रिका मे प्रकाशित हुआ है।

योजक चिह्न – दो शब्दों को जोड़ा जाये तो योजक चिह्न ही प्रयोग किया जाता है। जैसे –

  • अच्छा-बुरा, खाना-पीना, राजा-रानी आदि।

विवरण चिह्न – किसी भी वाक्य के पश्चात के विवरण देने के लिए यह चिह्न लगाया जाता है। जैसे-

चिड़िया कहानी की कुछ विशेषतायें नीचे दी गई हैं –

  • कहानी सरल भाषा में लिखी गई है।
  • चिड़िया के जीवन से मेहनत की प्रेरणा मिलती है।
Pin It

How to say can I have in Hindi

Pin It

How to say can I have in Hindi

While we will be giving the literal meaning of this Hindi phrase, it is important to note that ‘can I have’ is a kind of half sentence or a teaser kind of where the person is asking for something.

So, when you try to learn this phrase, you will need to take care of adding the meaning of that thing with this phrase. Moreover, with different things added to this phrase, the contextual meaning and usage of this sentence may also change.

 

How to say can I have in Hindi

 

 

Suppose you want to say ‘Can I have water’, the meaning would change drastically. Accordingly, the Hindi phrase would also need to be changed. But you will come to know about all this through practice only.

Pin It

हिन्दी सीखें–विराम-चिह्न (Punctuation Marks)

Pin It

विराम-चिह्न (Punctuation Marks)

वाक्य के अर्थ को स्पष्ट करने के लिए जो चिह्न लगाये जाते हैं, उन्हें विराम-चिह्न कहा जाता है। ‘विराम’ का अर्थ है ‘रुकना’। आवश्यकता के अनुसार रुकना आवश्यक भी हो जाता है।

ध्यानपूर्वक देखने से नीचे दी गई दो उदाहरणो से वाक्य के पृथक-पृथक अर्थ स्पष्ट हो जाते हैं। जैसे-

  • रुको, मत खाओ।
  • रुको मत, अब खाओ।
  • ठहरो, मत मारो।
  • ठहरो मत, अब मारो।

हिन्दी में प्रयुक्त होनेवाले प्रमुख विराम-चिह्न निम्नलिखित हैं-

  • पूर्ण विराम – ( । )
  • अल्प विराम – ( , )
  • अर्ध विराम – ( ; )
  • प्रश्नसूचक चिह्न ( ? )
  • विस्मयबोधक चिह्न ( ! )
  • उद्धरण चिह्न (“ ”)
  • योजक चिह्न ( – )
  • विवरण चिह्न ( – )
Pin It

जीवन जाच

Pin It

जीवन जीने की कला ही जाच है। इसमें सुख-दु:ख, जय-पराजय और लाभ-हानी समान चलते हैं।

भगवान् श्रीकृष्ण ने कहा है- ‘सुखदु:खे समे कृत्वा लाभालाभौ जयाजयौ’।

वाल्मीकि रामायण में लिखा है- ‘दुर्लभं हि सदा सुखम्’।

महाकवि गोस्वामी तुलसीदासजी ने लिखा है-

तुलसी इस संसार में, सुख दु:ख दोनों होय।
ज्ञानी काटे ज्ञान से, मूरख काटे रोय।।

Some points that will benefit you:

  1. आस्तिक बनें (Be Theist)- ईश्वर पर भरोसा आवश्यक है। ‘ईश्वर जो कुछ करता है – अच्छा ही करता है’। श्रद्धापूर्वक की गयी प्रार्थना कभी निष्फल नहीं जाती। दिन का प्रारम्भ प्रार्थना से करें और अन्त भी प्रार्थना से करें।
  2. माता-पिता की सेवा (Serving Parents)- माता-पिता को प्रत्यक्ष देव व तीर्थ माना गया है। आयु, विद्या, यश और बल उनके आशीर्वाद से बढ़ते हैं। श्रीरामचरितमानस की शिक्षा है-
    सुनु जननी सोइ सुतु बड़भागी। जो पितु मातु बचन अनुरागी।।
    मनुस्मृति कहती है- अभिवादनशीलस्य नित्यं वृद्धोपसेविन:।
    चत्वारि तस्य वर्धन्ते आयुर्विद्या यशो बलम्।।
  3. सुख दो, सुख मिलता है (Give and Take are Reciprocal)- दूसरों को  प्रसन्नता, सुख और प्रेम देनेपर ही सुख की प्राप्ति होती है। ‘जो दोगे वही तो मिलेगा’ और ‘जैसा बोओगे वैसा काटोगे’ ।
    संत तुलसी ने लिखा है- चार वेद षट् शास्त्र में बात मिली हैं दोय।
    सुख दीन्हे सुख होत है दु:ख दीन्हे दु:ख होय।।
  4. सदैव सन्तुष्ट रहना (Be Content)- सन्तोष सुख और असन्तोष दुख है। ‘सन्तोष: परमं सुखम्’ । ‘अशान्तस्य कुत: सुखम्’ ? परिश्रम और पुरुषार्थ से सुख मिलता है। अशान्ति भाग जाती है।
  5. धैर्य रखें (Keep Patience) – धैर्य रखने से कठिन समस्यायों का समाधान होता है और परिस्थितियाँ भी अनुकुल हो जाती हैं। हितोपदेश में लिखा है- ‘विपदि धैर्यम्’ ।
Pin It

How to say may I help you in Hindi

Pin It

May I help you in Hindi

It is pretty simple and easy to understand how to say may I help you in Hindi. Unlike other Hindi phrases that have some different meanings when it comes to content and context, this one is pretty straight-forward.

 

How to say may I help you in Hindi

 

This version is for male. If a female is to say the same Hindi phrase, the second-last word of the line will be changed to सकती (Sakatī) and all else will remain same.

At the same time, it is a bit formal. The third word of this phrase may change to तुम्हारी (Tumahārī) or तेरी (Terī), which will make it a bit more informal.

However, this sentence itself is very formally used and therefore you can stick with the original Hindi translation only.

Pin It

How to say thank you and you are welcome in Hindi

Pin It

Thank you and you are welcome in Hindi

While learning how to say thank you and you are welcome in Hindi, please note that in general conversational Hindi, people hardly speak these phrases together. However, their literal meaning makes a type of sentence but if somebody has to say while talking to somebody in Hindi, he will not use the whole of it.

But anyways, here it is:

 

How to say thank you and you are welcome in Hindi

 

In conversational Hindi, the second word and the last two words from the Hindi sentence would suffice to convey the same meaning.

If you want any type of clarification, you may write to us through the comment section.

Pin It

अर्थ के आधार पर वाक्य-भेद

Pin It

अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते हैं। जो निम्नलिखित हैं-

विधिवाचक – जिस वाक्य में किसी कार्य का करना या होना सामान्य रूप से प्रकट हो, उसे विधिवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे –

  • शाम हाॉकी खेल रहा है।
  • वह एक अच्छी लड़की है।

आज्ञार्थक – जिस वाक्य में आज्ञा, प्रार्थना अथवा परामर्श का भाव प्रक्ट हो, उसे आज्ञार्थक वाक्य कहा जाता है। जैसे-

  • ऊपर चले जाईए।
  • सड़क पर नियमों का पालन करना चाहिये।

प्रश्नवाचक – जिस वाक्य में कोई प्रश्न पूछा गया हो, उसे प्रश्नवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे-

  • कहाँ से आ रहे हो?
  • क्या आप कल पाठशाला जायेंगे?

इन वाक्यों के अन्त में प्रश्नसूचक चिह्न ( ? ) अवश्य लगायें।

निषेधवाचक वाक्य – जिस वाक्य में किसी काम का न होना प्रकट हो, उसे निषेधवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे-

  • मैं आज दिल्ली नहीं जा रहा।
  • चोरी मत करना।

इन वाक्यों में न, ना, मत, नहीं आदि शब्दों का प्रयोग होता है।

विस्मयादिबोधक वाक्य – जिस वाक्य से हर्ष, शोक, दुख या आश्चर्य का भाव प्रकट हो, उसे विस्मयादिबोधक वाक्य कहा जाता है। जैसे –

  • वाह ! प्रसन्नता की बात है !
  • आप को बधाई हो !

विस्मयादिबोधक चिह्न ( ! ) का प्रयोग अवश्य करें।

सन्देहवाचक वाक्य – जिस वाक्य में कार्य के होने के विषय में सन्देह व्यक्त किया गया हो, उसे सन्देहवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे –

  • कदाचित्, वह कक्षा में पास हो जाये।
  • संभवत: वह पहुँच गया होगा।

इच्छावाचक वाक्य – जिस वाक्य से इच्छा या शुभकामना का भाव प्रकट होता हो, उसे इच्छावाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे-

  • काश ! तुम आज पहुँच सकते !
  • युग-युग जीओ मेरे लाल !

सङ्केतवाचक वाक्य – जिस वाक्य में किसी कार्य का होना किसी दूसरी बात पर निर्भर होता हो, उसे सङ्केतवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे-

  • घण्टी बजते ही छुट्टी हो जाएगी।
  • कहना मान जाते तो इतनी चोट नहीं लगती।
Pin It

How to say what time is it in Hindi

Pin It

How to say what time is it in Hindi

While learning how to say what time is it in Hindi, notice that a lot of people in India use the meaning of time from middle-eastern languages, which had a lot of impact on the development of Hindi.

Time=वक़्त (Waqta)

However, the original Hindi word is also easily understood and used by many. I have given the original Hindi translation for this phrase.

 

How to say what time is it in Hindi

 

There might be some variations of the same phrase by removing the third word from it, but you should learn it this way only. If you face any problems or want to ask something, you may write to us through the comment section.

Pin It