हिन्दी सीखें

हिन्दी सीखें–प्रमुख विराम-चिह्न

Punctuation marks in Hindi (प्रमुख विराम-चिह्न) पूर्ण विराम – वाक्य के समाप्त होने पर यह चिह्न लगाया जाता है। इससे वाक्य के पूर्ण होने का बोद्ध होता है। जैसे – रवी सो गया है। अब कल सवेरे मिलना। सूर्योदय से पूर्व उठना सेहत के लिए लाभकारी है। अल्प विराम – वाक्य में जहाँ थोड़ा रुकना …

हिन्दी सीखें–प्रमुख विराम-चिह्नRead More »

हिन्दी सीखें–विराम-चिह्न (Punctuation Marks)

विराम-चिह्न (Punctuation Marks) वाक्य के अर्थ को स्पष्ट करने के लिए जो चिह्न लगाये जाते हैं, उन्हें विराम-चिह्न कहा जाता है। ‘विराम’ का अर्थ है ‘रुकना’। आवश्यकता के अनुसार रुकना आवश्यक भी हो जाता है। ध्यानपूर्वक देखने से नीचे दी गई दो उदाहरणो से वाक्य के पृथक-पृथक अर्थ स्पष्ट हो जाते हैं। जैसे- रुको, मत खाओ। रुको मत, …

हिन्दी सीखें–विराम-चिह्न (Punctuation Marks)Read More »

अर्थ के आधार पर वाक्य-भेद

अर्थ के आधार पर वाक्य आठ प्रकार के होते हैं। जो निम्नलिखित हैं- विधिवाचक – जिस वाक्य में किसी कार्य का करना या होना सामान्य रूप से प्रकट हो, उसे विधिवाचक वाक्य कहा जाता है। जैसे – शाम हाॉकी खेल रहा है। वह एक अच्छी लड़की है। आज्ञार्थक – जिस वाक्य में आज्ञा, प्रार्थना अथवा …

अर्थ के आधार पर वाक्य-भेदRead More »

हिन्दी सीखें–वाक्य (Sentence in Hindi)

हिन्दी सीखें–वाक्य (Sentence in Hindi) जिस शब्द या शब्द-समूह से अर्थ पूर्ण बात समझ आ जाये, उसे वाक्य कहा जाता है। जैसे – वह सो रहा है। चोरी करना एक बुरी आदत है। याद रखने योग्य – प्रत्येक वाक्य का क्रिया एक आवश्यक अङ्ग होती है। वाक्य के दो अङ्ग होते हैं – उद्देश्य विधेय …

हिन्दी सीखें–वाक्य (Sentence in Hindi)Read More »