Short Hindi Story for Class 6 With Moral

Last year, I was in Chennai visiting a friend and we went on the bike to visit some places including the Marina Beach. We went to the Snake Park near IIT, Madras and the adjacent Children Park. The picture shared here is the original picture taken from that park only.

During visiting the snake park and the area filled with many crocodiles, this incident happened and I thought of sharing it as a story. I feel this story is appropriate to be used in schools and for other activities for the students of class 5-6 and above grades.

Hindi story for kids

If you would like to suggest anything, share any similar story or provide any kind of feedback, please do write to us through the comment section.

Hindi Story for Kids

_____________________________________

एक बार की बात है शैलजा और राहुल अपने चाचा-चाची के साथ चैन्नै नगर घूमने गये। उनके साथ उनकी चचेरी बहन आद्या भी थी। चैन्नै नगर दक्षिण भारत में स्थित राज्य तामिलनाडु की राजधानी है। पूर्व में इस नगर का नाम मद्रास था।

दोनो बच्चे अपने चाचा के साथ स्नेक पार्क तथा चिल्डर्न पार्क घूमने गये हुये थे। उन्होने वहाँ अधिक प्रकार के साँपों को देखा तथा उनके बारे में जानकारी प्राप्त की। शुर्तमुर्ग, सियार, तथा अन्य कई प्रकार के वन्य जीव तथा पक्षी भी देखे। तभी उन्हें मगरमच्छों का एक बड़ा सा बाड़ा दिखा। उस बाड़े में बहुत से मगरमच्छ एक दूसरे के ऊपर चढ़े हुये थे तथा धूप में सुस्ता रहे थे। बहुत से मगरमच्छों ने अपने मूँह भी खोल रखे थे जैसे वो अपने दाँतों को धूप लगवा रहे हों।

बच्चों के चाचा के पास एक बड़ा अच्छा डिजिटल कैमरा था। वो सभी जानवरों के चित्र उतार रहे थे परन्तु मगरमच्छों के बाड़े में तारे लगे होने के कारण मगरमच्छों के चित्र लेने में बाधा आ रही थी।

तभी राहुल को बाड़े की दीवार पर ऐसा स्थान दिखा जिस पर पाँव रख कर ऊपर चढ़ा जा सकता था तथा वहाँ से चित्र साफ़ आते। उसने अपने चाचा से वहाँ चढ़ने को कहा पर उसके चाचा ने ऐसा करने से मना कर दिया। बच्चों को निराशा तो हुई कि मगरमच्छों के अच्छे चित्र नहीं आ सके पर बाद में होटल में आ कर उनके चाचा ने उनको समझाया-

मैं बाड़े के ऊपर इस लिये नहीं चढ़ा क्योंकि एक तो वहाँ से बाड़े के अन्दर गिरने की शङ्का थी–यदि ऐसा होता तो मुझे चोट लगती तथा ये भी हो सकता था कि वो मगर मुझे कच्चा ही चबा जाते। दूसरा इस लिये कि यदि हम बाड़े के अन्दर बिना गिरे चित्र खींच भी लेते तो भी अन्य लोग हमें देख कर ऐसा ही करने का यत्न करते जो कि सुरक्षा की दृश्टि से अच्छा नहीं है क्योंकि दुर्घटना होने की सम्भावना बहुत है। इसी लिये मैंने ऐसा करने से मना कर दिया। बच्चे समझ गये कि हमें सावधानी से रहना चाहिये तथा नियमों का उल्लंघन नहीं करना चाहिये।

सीख–नियमों का उल्लंघन ना करो तथा दूसरों के लिये बुरी उदाहरण ना बनो।

Comments

comments

2 thoughts on “Short Hindi Story for Class 6 With Moral”

    1. Dear Mohan Sir,

      You can go ahead and use this story as you would like. If you want, after you translate it in the Telugu language, I can publish it on my website also–you may choose to simply share it on Facebook also. I have no problem, whatsoever. Thanks for reading through the story and liking it!

Leave a Reply