हिन्दी भाषा–क्रिया विशेषण (Adverb)

Posted on Posted in Hindi

क्रिया विशेषण (Adverb, Kriya Visheshan in Hindi)

जो शब्द क्रिया या क्रिया विशेषण की विशेषता बताते हैं, उन्हें क्रिया विशेषण कहा जाता है। जैसे-

  • गाड़ी तेज़ दौड़ती है। (यहाँ ‘तेज़’, शब्द ‘दौड़ती है’ क्रिया की विशेषता बता रहा है।)
  • वह धीरे चलता है। (‘धीरे’ शब्द ‘चलता है’ क्रिया की विशेषता है।)
  • हम प्रतिदिन टहलने जाते हैं। (‘प्रतिदिन’ शब्द ‘जाते हैं’ क्रिया की विशेषता बता रहा है।)

क्रिया विशेषण के भेद (Kinds of Adverb)

क्रिया विशेषण के चार भेद हैं-

  • स्थानवाचक क्रिया विशेषण
  • कालवाचक क्रिया विशेषण
  • परिमाणवाचक क्रिया विशेषण
  • रीतिवाचक क्रिया विशेषण

स्थानवाचक क्रिया विशेषण – जिन शब्दों से क्रिया के होने के स्थान का पता चलता है, उसे स्थानवाचक क्रिया विशेषण कहा जाता है। जैसे-

  • शशी मेरे पास बैठी है।
  • सुधा बाहर गई है।
  • पिता, पुत्र यहाँ ही रहते हैं।

यहाँ पहले उदाहरण में ‘पास’ से बैठने, दूसरे में ‘बाहर’ से जाने का, तीसरे में ‘यहाँ’ से रहने के स्थान का बोध होता है। इस लिए ‘पास’, ‘बाहर’ और ‘यहाँ’ स्थानवाचक क्रिया विशेषण हैं।

कालवाचक क्रिया विशेषण – जिन शब्दों से क्रिया के होने का समय ज्ञात होता है, उन्हें कालवाचक क्रिया विशेषण कहा जाता है। जैसे –

  • रमा कल आई थी।
  • हम प्रतिदिन टहलने जाते हैं।
  • हमारा मित्र अभी आ जायेगा।

इन वाक्यों में ‘कल’ समय का ‘आई थी’ क्रिया का, ‘प्रतिदिन’ समय का और ‘टहलना’ क्रिया का, ‘अभी’ समय का और ‘जायेगा’ क्रिया का बोध कराते हैं। अत: ये कालवाचक क्रिया विशेषण हैं।

परिमाणवाचक क्रिया विशेषण – जिन शब्दों से क्रिया अथवा क्रिया विशेषण का परिमाण ज्ञात होता हो, उन्हें परिमाणवाचक क्रिया विशेषण कहा जाता है। जैसे –

  • अशोक तेज़ दौड़ता है।
  • रमा कम खाती है।
  • सुभाश बहुत पढ़ता है।

इन वाक्यों में ‘तेज़’ शब्द ‘दौड़ता है’ क्रिया का, ‘कम’ शब्द ‘खाने की’ क्रिया का, ‘बहुत’ शब्द ‘पढ़ने की’ क्रिया का परिमाण बताता है। इस लिये ‘तेज़’, ‘कम’ और ‘बहुत’ परिमाणवाचक क्रिया विशेषण हैं।

रीतिवाचक क्रिया विशेषण – वाक्य में वह शब्द जिनसे क्रिया के होने की रीति या विधि का ज्ञान हो, उन्हें रीतिवाचक क्रिया विशेषण कहा जाता है। जैसे –

  • जङ्गली पशु मुझ पर अचानक टूट पड़ा।
  • नई जगह पर धीरे-धीरे चलना चाहीये।
  • वह मेरी ओर मुस्करा कर देख रही थी।

इन वाक्यों में ‘अचानक’ शब्द ‘टूट पड़ने’ का, ‘धीरे-धीरे’ शब्द ‘चलने’ का और ‘मुस्कराकर’ शब्द ‘देखने’ का, क्रिया के ढ़ङ्ग का ज्ञान देता है। इस लिये ‘अचानक’,’ धीरे-धीरे’ और ‘मुस्कराकर’ शब्द रीतिवाचक क्रिया विशेषण हैं।

Comments

comments

One thought on “हिन्दी भाषा–क्रिया विशेषण (Adverb)

Leave a Reply