Hindi Poem–अरी सखी

Posted on Posted in Hindi Poem

अरी सखी

कौन कहता है तू अबला है

 

तू तो लक्षमी है

जो रणचण्डी बनी।

 

तू तो सत्य से भी विचित्र कल्पना है

जो अन्तरिक्ष को छू गई।

 

तू तो विपत्ति की दलदल से ऊपर उठकर

नीरजा बन कर खिली।

 

अरी सखी

तू सबला है।

तू निर्भया है।

तू प्रबला है।

Comments

comments

Leave a Reply